बेटियों की सुरक्षा पर परिचर्चा आयोजित, छात्राओं ने दिखाई रूचि

शिक्षा संकुल परिसर में स्थित राजस्थान स्कूल ऑफ़ आर्ट के प्रकोष्ठ द्वारा कानून व स्वावलम्बन पर परिचर्चा का आयोजन किया गया. समन्वयक डॉक्टर स्निग्धा शर्मा ने बताया कि सन्दर्भ व्यक्ति के रूप में श्वेता जाजू और बालाजी क्रिएशन कि प्रोपराइटर अर्चना तिवारी उपस्थित थे.

मानवाधिर के लिए कार्य कर रही जुझारू सामाजिक कार्यकर्ता श्वेता जाजू ने उपस्थित छात्राओं को भारतीय कानून में महिलाओ कि सुरक्षा हेतु बनी धाराओं व एक्ट की विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि आप अपने साथ हो रहे किसी भी तरह के अन्याय के खिलाफ आवाज़ उठा सकती हैं, क्यों कि कानून में हर छोटे से छोटे अपराध केलिए भी सजा का प्रावधान है.

श्वेता जाजू ने कुछ घटनाओ पर प्रकाश डालते हुए उनका उदहारण के रूप में जिक्र करते हुए छात्राओं का उत्साहवर्धन किया. परिचर्चा में छात्राओं ने भी रूचि लेते हुए अपने अपने विचार और अनुभव सबके सामने साझा किये.

प्रिंसिपल ज्योत्सना भरद्वाज ने अपने सम्बोधन में कहा कि महिला सशक्तिकरण कि हम चाहे कितनी बाते कर ले लेकिन वह तभी सशक्त होगी जब सुरक्षित होगी.

इस कार्यक्रम में छात्राओं के लिए रूचिकर बनाने हेतु प्रश्नोत्तरी भी आयोजित कि गई. बालाजी क्रिएशन द्वारा निर्मित ट्रांसि लेगिंग छात्राओं में वितरित कि गई.

परिचर्चा में महाविद्यालय के लेक्चरर जगमोहन, ममता चतुर्वेदी, रूचि शर्मा आदि भी उपस्थित रहे.