पत्रकार सुदीप भौमिक की हत्या के खिलाफ अखबारों ने दर्ज कराया विरोध, सम्पादकीय का कॉलम छोड़ा खाली

त्रिपुरा में पिछले दिनों हुए एक पत्रकार की हत्या के विरोध में गुरुवार को यहां के अखबारों ने अपने तरीके से विरोध जताया है. अखबारों ने पत्रकार की हत्या के विरोध में अपने संपादकीय कॉलम खाली छोड़ दिए हैं. त्रिपुरा के लगभग हर अखबार ने एडिटोरियल कॉलम को खाली छोड़ कर विरोध दर्शाया है.

गौरतलब है कि त्रिपुरा में एक कॉन्स्टेबल ने बांग्ला अखबार के पत्रकार सुदीप दत्ता भौमिक की गोली मारकर हत्या कर दी थी. बताया गया था कि दोनों के बीच किसी विषय पर कहासुनी हो गई थी. जिसके बाद त्रिपुरा स्टेट राइफल्स के कॉन्स्टेबल ने सुदीप को गोली मार दी. पुलिस ने बताया कि मौके पर पहुंची पुलिस ने पाया कि ‘स्यादंन पत्रिका’ के संवाददाता सुदीप दत्ता भौमिक को गोली लगी थी तथा वे खून से लतपथ थे. उन्हें अगरतला के जी बी अस्पताल ले जाया गया जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया गया था.

इस घटना के बाद टीएसआर कांस्टेबल नंदू रयांग को गिरफ्तार कर लिया गया था. अखबार के एक अन्य संपादक सुबल ने आरोप लगाया कि भौमिक की हत्या टीएसआर की दूसरी बटालियन के कमांडेंट तपन देब्बारमा ने करवाई है, क्योंकि उन्होंने अधिकारी की भ्रष्ट क्रियाकलापों के खिलाफ कई खबरें लिखी थीं. वे इस बाद से काफी नाराज़ थे.

इस घटना के बाद संपादक सुबल ने कमांडेंट देब्बारमा की तत्काल गिरफ्तारी और निलंबन की मांग की है. इस मामले में भारतीय प्रेस परिषद ने राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी है. बता दे कि राज्य में 2 महीने के अंदर दूसरी बार पत्रकार की हत्या की गई है. इस मामले में इंडियन न्यूजपेपर सोसायटी (आईएनएस) ने भी विरोध जताया और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की है.

आईएनएस ने बयान जारी कर कहा, ‘त्रिपुरा में दो महीने में किसी पत्रकार की यह दूसरी हत्या है और इससे पत्रकार वर्ग में काफी असुरक्षा की भावना है. आईएनएस मांग करता है कि त्रिपुरा की सरकार दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दे.’