पद्मावती विवाद : खट्टर द्वारा की गई उपेक्षा से नाराज़ अमु ने दिया इस्तीफा, कही थी अपने अपमान की बात

दीपिका की नाक काटने की धमकी देने वाले भाजपा नेता सूरजपाल अमू ने भाजपा के चीफ मीडिया कोऑर्डिनेटर पद से इस्तीफा दे दिया है. मनोहर लाल खट्टर ने उन्हें पद्मावती फिल्म के विषय में कुछ बात करने बुलाया था तथा वे उनसे मिल नहीं सके. उनके इस बर्ताव से नाराज़ अमु ने पीएम मोदी से अपील की थी के खट्टर से पूछे कि उन्होंने ऐसा क्यों किया?

बता दे कि सूरज पाल अमू पद्मावती मामले में काफी सक्रिय दिख रहे थे. उन्होंने दीपिका पादुकोण और संजय लीला भंसाली को धमकी भी दी थी. इसी के साथ अमु ने बंगाल की सीएम ममता बनर्जी को इस फिल्म के समर्थन करने पर अपशब्द भी कहे थे. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को इसके लिए फटकार भी लगाई थी कि वे अपनी मंत्रियों की बयानबाजी पर रोक लगाए.

भाजपा नेता रहे अमू दीपिका तथा संजय लीला भंसाली के नाक काटने वाले बयान के बाद से ही आलोचना झेल रहे थे. इस दौरान मंगलवार को ये भी खबर आई थी कि वो हरियाणा के सीएम मनोहरलाल खट्टर से नाराज हो गए थे. दरअसल, राजपूत करणी सेना ने सीएम से मिलने के लिए वक्त मांगा था लेकिन खट्टर ने वक्त देने के बावजूद मुलाकात नहीं की. इस पर अमू भड़क गए. उन्होंने कहा कि खट्टर ने ऐसा करके राजपूतों का अपमान किया है.

उन्होंने कहा कि अगर उन्हें ऐसा करना है तो वो उन्हें पार्टी से निकाल दें लेकिन उनका अपमान न करें. ये राजपूतों का अपमान हैं. उन्होंने पूछा कि ‘आखिर सीएम ने इतनी दूर राजस्थान से आए लोगों से मुलाकात क्यों नहीं की?’ इसके अलावा उन्होंने कहा मैं खट्टर को 22 वर्षो से जानता हूँ, वे घमंडी हो गए हैं.