प्रद्युमन ठाकुर हत्याकांड : हत्या के जुर्म में 11वीं क्लास के स्टूडेंट को किया गिरफ्तार, पिता ने लगाई गुहार- मेरा बेटा निर्दोष है

रेयान इंटरनेशनल स्कूल के स्टूडेंट प्रद्युम्न ठाकुर मर्डर केस में नया रुख ले लिया है. इस मामले में सीबीआई ने स्कूल के 11वीं के छात्र को शक के आधार पर हिरासत में लिया है, छात्र से पूछताछ जारी है. मामले में इस लड़के की भूमिका संदिग्ध मानी जा रही है. इसे लेकर सीबीआई कुछ देर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस पर भी कर सकती है. बताया गया था कि छात्र के साथ कंडक्टर ने रेप की कोशिश की थी और विरोध करने पर उसकी हत्या कर दी थी. वहीं, प्रद्युम्न के पिता ने इस नए डेवलपमेंट को लेकर कोई भी जानकारी होने से इनकार किया है.

स्टूडेंट के पिता ने कहा, ‘सीबीआई ने मेरे बेटे से इस सन्दर्भ में चार बार पूछताछ कर चुकी है. मेरे बेटे ने सीबीआई की पूरी मदद की है, उसे मंगलवार रात को भी बुलाया. हम रात करीब 11.20 बजे वहां पहुंचे. पूछताछ के बाद 12 बजे सीबीआई ने मुझसे कहा आपके बेटे ने मर्डर किया है. उसे हिरासत में लिया गया है, आप घर जाइए. मेरा बेटा बेगुनाह है. उसने गुनाह कबूल नहीं किया है. उसे सीबीआई फंसाने की कोशिश कर रही है. उसी ने सबसे पहले माली और टीचर को मर्डर के बारे में इन्फॉर्मेशन दी थी.’

इस केस में स्कूल के बस कंडक्टर अशोक कुमार के अलावा रेयान ग्रुप के दो अफसर रेयान ग्रुप के नॉर्थ जोन हेड फ्रांसिस थॉमस और भोंडसी स्थित स्कूल कोऑर्डिनेटर कोप भी गिरफ्तार किया गया था.लेकिन अब 11वीं के छात्र को हिरासत में लिए जाने के बाद इस हत्याकांड में नया मोड़ आ सकता है. इस मामले में प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर ने बताया कि उन्हें छात्र को हिरासत में लिए जाने को लेकर अब तक कोई जानकारी नहीं मिली है. उन्होंने कहा कि उन्हें भरोसा है कि सीबीआई उनके बेटे के हत्यारे तक जरूर पहुंचेगी.

गौरतलब है कि 8 सितंबर को गुरुग्राम के भोंडसी में स्थित रायन इंटरनेशनल स्‍कूल में 7 साल के प्रद्युम्न हत्‍या का मामला सामने आया था. इसके बाद मर्डर के आरोप में बस कंडक्‍टर अशोक को हिरासत में लिया गया था. अशोक ने मीडिया के सामने भी हत्‍या की बात कुबूल की थी. लेकिन बाद में उसने बयान बदल दिया. इस मामले में अलग-अलग मीडिया रिपोर्ट में भी यह सवाल उठाए गए कि इस मामले में कोई अन्‍य भी शमिल भी हो सकता है. हत्‍या के मामले में लोगों का गुस्‍सा देखते हुए रायन स्‍कूल प्रबंधन ने प्रिंसिपल को भी निलंबित कर दिया था.